Koka Chamke Mare Lyrics – Shiva Choudhary

Haryanvi song Koka Chamke Mare Lyrics sung by Shiva Choudhary. Music is given by Aman Jaji and Lyrics written by Raju Kandela.

SingerShiva Choudhary
MusicAman Jaji
Song WriterRaju Kandela

Koka Chamke Mare Lyrics

डायमंड का यो आंगली म छला कसुता जच रा स
भोपाल त मंगवा राखा वो सुरमा लाणा बच रा स
डायमंड का यो आंगली म छला कसुता जच रा स
भोपाल त मंगवा राखा वो सुरमा लाणा बच रा स

मखा मेरे चांद जिसे इस मुखड़े की
र टोक यो डोरा तारा हो

जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह
जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह
हाए जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह

ढुंगेआली तगड़ी मेरी छान छान करती चाला स
मटक मटक जब चालू सु काना की बाली हाला स
ढुंगेआली तगड़ी मेरी छान छान करती चाला स
मटक मटक जब चालू सु काना की बाली हाला स

मखा मुमताज की ज्यू मेरा भी यो चरचा चाला सारा हो

जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह
जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह
हाए जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह

गुड़गांव त घाघरा मेरा ल्या राख्या स राजू न
9-9 चूड़ी चमके मारे कंडेले आले बाजू म
गुड़गांव त घाघरा मेरा ल्या राख्या स राजू न
9-9 चूड़ी चमके मारे कंडेले आले बाजू म

जब शीशे आगे बैठु सु महारानी सी रूप सवारे हो

जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह
जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह
हाए जब सज धज क न लिकडु सु
मेरा कोका चमके मारा ह